50+ संस्कृत सूक्तियां- sanskrit quotes

संस्कृत सूक्तियां- sanskrit quotes

दोस्तों! आज हम आपके लिए 50+ संस्कृत सूक्तियां- sanskrit quotes नामक पोस्ट लेकर आये हैं। जिसमें 50 से अधिक संस्कृत भाषा की प्रसिद्ध proverbs या quotes का संग्रह किया गया है।

संस्कृत सूक्तियां

संस्कृत सूक्तियां- sanskrit quotes
संस्कृत सूक्तियां- sanskrit quotes

1- अतृणे पतितो वह्निः स्वयमेवोय शाम्यति।
अर्थ- तिनकों से रहित स्थान पर पड़ी हुई अग्नि स्वयं शांत हो जाती है।

2- आहारे व्यवहारे च त्यक्तलज्जः सुखी भवेत।
अर्थ- आहार और व्यवहार में लज्जा का त्याग करने वाला सुखी रहता है।

3- आर्जवं हि कुटिलेषु न नीतिः।
अर्थ- कुटिल मनुष्यों के साथ सरलता का व्यवहार करना नीति सम्मत नहीं है।

4- अति सर्वत्र वर्जयेत।
अर्थ- अति सभी जगह वर्जित है।

5- अवश्यमेवं भोक्तव्यं कृतं कर्म शुभाशुभम्।
अर्थ- किये गए अच्छे या बुरे कर्मों का फल अवश्य ही भोगना पड़ता है।

6- आत्मवत् सर्वभूतानि।
अर्थ- सभी प्राणियों को अपने समान समझना चाहिए।

7- उपदेशो हि मूर्खाणाम् प्रकोपायं न शान्तये।
अर्थ- मूर्ख व्यक्ति को उपदेश देने से उसका क्रोध शांत नहीं होता।

8- उद्योगिनं पुरुष सिंहमुपैति लक्ष्मी।
अर्थ- उद्योगी अथवा मेहनती लोग ही लक्ष्मी की प्राप्ति करते हैं।

9- उदर निमित्तं बहु कृत वेषा।
अर्थ- पेट भरने के लिए बहुत से रूप धारण करने पड़ते हैं।

10- एकः स्वाद न भुञ्जीथाः।
अर्थ- किसी वस्तु को अकेले खाने में आनन्द नहीं आता।

11- कृशेकस्यास्ति सौह्रदम्।
अर्थ- गरीब का कौन मित्र होता है ?

12- किं जीवितेन् पुरुषस्य निरक्षरेण।
अर्थ- निरक्षर मनुष्य के जीवन से क्या लाभ !

13- कालस्य कुटिलः गतिः।
अर्थ- काल की गति टेढ़ी होती है। जिसे जानना सम्भव नहीं है।

14- गुणेर्विहीना बहुजल्पयन्ति।
अर्थ- गुणहीन व्यक्ति बहुत बकवास करते हैं।

15- जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी।
अर्थ- माता और जन्मभूमि ये दोनों स्वर्ग से भी बढकर हैं।

16- दैवो दुर्बल घातकः।
अर्थ- भाग्य भी निर्बलों को ज्यादा दुख देता है।

17- न बन्धु मध्ये धनहीन जीवनम्।
अर्थ- बंधुओं के बीच में गरीब होकर रहना जीवन का सबसे बड़ा दुख है।

18- न मूर्ख जन ससंगति सुरेन्द्रभवनेश्वपि।
अर्थ- मूर्ख व्यक्तियों के साथ स्वर्ग में रहना भी सुखकर नहीं है।

19- न हि सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृगाः।
अर्थ- सोए हुए शेर के मुंह में हिरन अपने आप नहीं घुस जाते। अर्थात उसे शिकार के लिए प्रयत्न करना पड़ता है।

20- निरस्त पादपे देशे एरण्डोपि द्रुमापदे।
अर्थ- वृक्ष विहीन क्षेत्र में एरंड का पौधा भी पेड़ ही कहा जाता है। यानी मूर्खो के बीच कम गुणवान का भी बड़ा महत्व होता है।

21- नैकत्र सर्वे गुण सन्निपातः।

अर्थ- सभी गुण एक ही स्थान पर नहीं मिलते।

22- पयः पानं भुजंगानां केवलं विषवर्द्धनम्।
अर्थ- सांप को दूध पिलाने से केवल उसका विष ही बढ़ता है। अर्थात दुष्टों के साथ अच्छा व्यवहार करने से उनकी दुष्ट कम नहीं होती है।

23- परोपकाराय सतां विभूतयः।
अर्थ- परोपकार सज्जनों की संपत्ति होती है।

सूक्तियां संस्कृत में

24- परोपदेश बेलायां शिष्टाः सर्वे भवन्ति वै।
अर्थ- दूसरों को उपदेश देते समय सभी लोग सज्जन बन जाते हैं।

25- प्रासाद शिखरस्थोपि काकः किं गरुणायते।
अर्थ- महल के शिखर पर बैठने से कौवा गरुण नहीं बन जाता है। अर्थात बिना गुण के केवल बड़ों की संगति करने से कोई बड़ा नहीं बन जाता।

26- बुद्धिर्यस्य बलं तस्य, निर्बुद्धिस्य कुतो बलः।
अर्थ- जिसके पास बुद्धि है, वास्तव में वही बलवान है। बुद्धिहीन व्यक्ति के पास वास्तविक शक्ति कहाँ होती है ?

27- बुद्धेः फलमनाग्रहः।
अर्थ- हठ न करना ही बुद्धिमानी है।

28- मनस्वी कार्यार्थी न गणयति दुःखं न च सुखम्।
अर्थ- कार्य की पूर्ति चाहने वाला मनस्वी व्यक्ति सुख दुख की परवाह नहीं करता।

29- मितं च सार च वचो हि वाग्मिता।
अर्थ- संछिप्त और सार रूप में अपनी बात रखना ही वाक्पटुता है।

30- मुंडे मुंडे मतिर्भिन्नाः।
अर्थ- अलग अलग लोगों की अलग अलग राय होती है।

31- महाजनो येन गताः स पन्थाः।
अर्थ- महापुरुष जिस रास्ते पर चलते हैं। वही सही मार्ग है।

32- मौनं स्वीकृति लक्षणम्।
अर्थ- मौन होना स्वीकृति का लक्षण है।

33- मौनं स्वार्थ साधनं।
अर्थ- चुप रहने से सब काम हो जाते हैं।

34- यत्ने कृते यदि नसिद्धयति को अत्र दोषः।
अर्थ- प्रयत्न करने पर भी कम न हो तो किसका दोष ?

35- यादृशी शीतलादेवी तादृशी वाहन खरः।
अर्थ- जैसे को तैसा।

sanskrit proverbs

36- विद्या ददाति विनयं।
अर्थ- विद्या से विनम्रता आती है।

37- वज्रादपि कठोराणि मृदूनि कुसुमादपि।
अर्थ- सज्जन व्यक्ति वज्र से भी कठोर और फूलों से भी अधिक कोमल होते हैं।

38- विनाशकाले विपरीत बुद्धिः।
अर्थ- विनाश के समय बुद्धि विपरीत (नष्ट) हो जाती है।

39- विद्याधनं सर्व धनं प्रधानं।
अर्थ- विद्या रूपी धन सभी धनों से श्रेष्ठ होता है।

40- विद्याविहीनः पशुः।
अर्थ- विद्याहीन व्यक्ति पशु के समान है।

41- बुभुक्षितः किं न करोति पापं।
अर्थ- भूखा व्यक्ति कौन सा पाप नहीं करता है।

42- क्षीणाः नराः निष्करुणा भवन्ति।
अर्थ- कमजोर व्यक्ति दया से रहित होते हैं।

43- शरीरमाद्यं खलु धर्म साधनं
अर्थ- शरीर की रक्षा करना ही सबसे बड़ा धर्म है।

44- शठे शाठ्यं समाचरेत।
अर्थ- दुष्ट के साथ दुष्टतापूर्ण व्यवहार करना चाहिए।

45- शुभस्य शीघ्रम्, अशुभस्य कालहरणम्।
अर्थ- अच्छे कार्य शीघ्रता से करने चाहिए और बुरे कार्यों को टालना चाहिए।

46- सत्यमेव जयते नानृतं।
अर्थ- सत्य की ही जीत होती है असत्य की नहीं।

47- संतोषम् परमं सुखं।
अर्थ- संतोष ही सबसे बड़ा सुख है।

48- सर्वे गुणाः कांचनमाश्रयन्ते।
अर्थ- सारे गुण धन में ही निवास करते हैं।

49- सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात्।
अर्थ- सत्य बोलो प्रिय बोलो।

50- हितं मनोहारि च दुर्लभं वचः।
अर्थ- हितकर भी हों और प्रिय भी। ऐसे वचन दुर्लभ हैं।

51- शीलं परम् भूषणम।
अर्थ- सच्चरित्र या सज्जनता सबसे बड़ा आभूषण है।

यह भी पढ़ें–

70+संस्कृत श्लोक- Shlok in Sanskrit

21 krishna quotes in hindi- श्रीकृष्ण कोट्स

Bhojan Mantra- सही भोजन मंत्र एवं भोजन विधि

525+ हिंदी मुहावरे,अर्थ एवं वाक्य प्रयोग – hindi muhavare

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द- one word substitution in hindi

हिन्दू धर्म, व्रत, पूजा-पाठ, दर्शन, इतिहास, प्रेरणादायक कहानियां, प्रेरक प्रसंग, प्रेरक कविताएँ, सुविचार, भारत के संत, हिंदी भाषा ज्ञान आदि विषयों पर नई पोस्ट का नोटिफिकेशन प्राप्त करने के लिए नीचे बाई ओर बने बेल के निशान को दबाकर हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब जरूर करें।

50+ संस्कृत सूक्तियां- sanskrit quotes नामक यह पोस्ट आपको कैसी लगी ? कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top